“दिल के दवाई” भोजपुरी एल्बम का गाना दिल के दवाई भरत भोजपुरी ने गाया है, जबकि गाने के बोल दीपक देव राज ने लिखे है और संगीत आशीष वर्मा ने दिया है। भोजपुरी सॉन्ग वेव म्यूजिक की तरफ से शानदार प्रस्तुति हैं।

प्रेमिका द्वारा प्यार में धोखा खाने पर प्रेमी बड़ा उदास हैं और उसकी याद में दिन रात तड़पता रहता हैं। अब उसकी यादो के सहारे प्रेमी अपने दिन बिता रहा हैं उसका दिल टूट जाने पर एक पागल की तरह अपनी प्रेमिका का इंतज़ार करता रहता हैं।

Dil Ke Dawai Song Lyrics

प्यार बनावले रब्बा दिल बनोवला
एक बात समझी ना समझादी हमके
दिल टूट जाई तो कइसे के जिया
काहे ना बनावला दवाई गम के

Advertisement

तड़पत दिल नाही रोई आँख हो
दिल के तसल्ली मिलती खाई के दिल खुराक हो
प्रीत बनावला रब्बा प्रेम बनावला
कइला तू काहे अपना मन के
दिल टूट जाई तो कइसे के जिया
काहे ना बनावला दवाई गम के

मोर प्रेम के करदी बेवफाई
मेडिकल से जाके ल्याई हमके दवाई
मन बनावला रब्बा मीत बनावला
दवा खाके भुलाइति ई सनम के
दिल टूट जाई तो कइसे के जिया
काहे ना बनावला दवाई गम के

अन्य भोजपुरी गाने :