अरविन्द अकेला “कल्लू” की आवाज में नया भोजपुरी रोमांटिक सैया कटर गइल वेव म्यूजिक की ओर से नयी पेशकश हैं। गीत के प्यारे बोल आर.आर पंकज ने लिखे हैं। गाने का संगीत निर्देशन छोटे बाबा ने किया हैं।

अपने सैया के बिना सजनी का घर में मन नहीं लग रहा हैं और सैया हर वक्त बहार घूमते रहते हैं। सैया के बिना उसकी जवानी के दिन बीते जा रहे हैं और उसकी चढ़ती जवानी चटर पटर करती रहती हैं। अपने को सैया याद करते हुए दिन रात उसके खयालो में खोई रहती हैं।

Saiya Katar Gail Song Lyrics

छिलखत पेन्सिन हमरो छनछनत कोठर ऐ सखी
जइया से सइया छोड़के गइल बाड़े कटर ऐ सखी
चढली जवानी हमर करे चटर पटर ऐ सखी
जइया से सइया छोड़के गइल बाड़े कटर ऐ सखी

Advertisement

पिया कते कमर छोड़ गइले भंवर
एको छनमानी ना लागे घरवा में
हां मनो ना लागल घरवा में
याद आवेता तर हमर नइहर के प्यार
जबन कइले रहनी हम कुंवरा में
कहिले से खुलल नइखे लहंगा के शटर ऐ सखी
जइया से सइया छोड़के गइल बाड़े कटर ऐ सखी

रोये दहिया जवान होता बड़ी नुकसान
उनकर बहारे में लागलबा मन हो
बात कलुया नादान नाही देवे दयान
पंकज बलमुआ खाती इगे लत पटर ऐ सखी
जइया से सइया छोड़के गइल बाड़े कटर ऐ सखी

https://www.youtube.com/watch?v=cAxj_WF2N1o

अन्य भोजपुरी गाने :