बाबू जी के दिहनी हमरो भोजपुरी गीत में आवाज सेतु सिंह ने दी। जबकि गाने के बोल संतोष जौनपुरिया ने लिखे हैं। “बाबू जी के दिहनी हमरो” भोजपुरी एल्बम का विडियो गीत वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड्स की ओर से प्रस्तुत हैं। गीत का म्यूजिक अवधेश चौरसिया ने कंपोज किया हैं ।

सजनी अपने सैया से परेशान होकर मायक जा रही हैं। उसके रोज रोज दारू पीके आने से सजनी तंग हो गयी हैं और उसने अपनी सजनी के सारे गहने भी बेच दिए हैं। अब उसके साथ रहकर सजनी का दम घुटने लगा हैं और वो अपने दिल का हाल किसको बताये। उसकी जवानी के दिन ऐसे ही निकले जा रहे हैं और सैया घर में कम बहार ज्यादा रहते हैं।

Babu Ji Ke Dihal Hamro Song Lyrics

बाबू जी दिहल हमरे सगरो गहनवा ना
बाबू जी दिहल हमरे सगरो गहनवा बेचे आवे तारी हो
के कवना सौवा दिन के फेरा ऐ लगावे तारे हो

Advertisement

तो घरवा में कबहु रहत नइखे
मगर हमरा से कुछु हु करत नइखे
बिगड़ल रहनिया इनकर रोज रोज पउवा ई चढ़ावा तारे हो
के कवना सौवा दिन के फेरा ऐ लगावे तारे हो

हाल दिलवा के कीकरा से बतलाई हो
मन करि के नइहर में चली जाई हो
चढली जवनिया यामे हमरा के रोज छनछनावता
के कवना सौवा दिन के फेरा ऐ लगावे तारे हो

उ तो हमरा हमरा के दम भुला गइले
जाके ओकर सपना पुराई दिहले
के कवना सौवा दिन के फेरा ऐ लगावे तारे हो

अन्य भोजपुरी गाने :

चेतावनी: शराब पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं।