‘जिगरवाल’ भोजपुरी फिल्म का गाना अमृत के धार अलोक कुमार ने गाया है, जबकि गाने के बोल प्यारे लाल यादव ने लिखे है और संगीत राजेश- रजनीश ने दिया है। भोजपुरी फिल्म का यह गाना दिनेश लाल यादव पर फिल्माया गया हैं।

माँ का कर्ज बच्चे मरते दम तक नहीं चुका सकते हैं और माँ के दुलार के बिना सब कुछ अधूरा हैं। माँ का अपने बच्चो पर बहुत एहसान होता हैं माँ ही अपने बच्चो को जन्म देकर उसे दुनिया दिखाती हैं और अन्न धन मिल जाने पर भी माँ के बिना सुख का अहसास नहीं होता हैं।

Amrit Ke Dhaar Song Lyrics

अमृत के धार केहू केतनो पियाई एगो माई बिना
कइसे करेजवा जुड़ाई ऐ भाई एगो माई बिना

करे ऐ एहसान माई दुनिया देखावेली
बोले बतियावे और चले भी सिखावेली
मिल जाई अन्न धन तो मिले सुख पूरा
माई के दुलार बिना सब कुछ अधूरा
अचरा ओढ़ा के के कहो दुधवा पियाई एगो माई बिना
कइसे करेजवा जुड़ाई ऐ भाई एगो माई बिना

नव माह कोखिया में रेखेलू सहज के
दिहलू जनमवा माई सारा सुख तेज के
कइसे गिनाई तोहर कितनो उपकारवा
रउआ रउआ माई हो तोहर कर्ज वा
कइसे करेजवा जुड़ाई ऐ भाई एगो माई बिना

अन्य भोजपुरी गाने भी देखे :