Pyar-Ke-Ro-Bahil
महेश परदेसी, चंद्र किशोरे, देवएडी, आशीष के बोल गीत में साजन को प्रेम रूपी दिन रात सताने लगे | प्रेम रोग का नया गीत “प्यार के रोग बहेल” को बिमल भोजपूरिया की मधुर आवाज़ के साथ देखिए | “बालमुआ बेदर्दी मिलल” एल्बम से P. कृष्णा द्वारा प्रकाशित नये गीत का प्रेमी के मस्ताने रूप के साथ आनंद उठाइए|

प्रेमी के दिल में लगी बैचेनी का दवाई से इलाज नही हो पाया| तन के भीतर ही भीतर दीवाना बनाने वाली आग लगने लगी| दुनिया का सुख मॅन को भा नही रहा| प्यार का रोग किसी दवाई से मीट नही रहा हैं| दिनभर प्रेम रूपी बीमारी से बीमार प्रेमी रात को मिलन के लिए तड़पता रहा|

Song : Pyar Ke Rog Bhail
Album : Balmua Bedardi Milal
Singer : Bimal Bhojpuriya
Lyrics : Mahesh Pardesi, Chandra Kishore, Devedi, Ashish
Music : Rajendra Sharma
Director: P. Krishna

Pyar Ke Rog Bhail Song Lyrics

Advertisement

रोग प्यार वाले दिहू लू लगाई दवाई कोनो काम ना करे x2
दिल के भीतर ली लू समाई दवाई कोनो काम ना करे

दिलवा में बसगयी तोहरे सपना तोहरे सिबाये केहू लागे ना अपना x2
भैल बाते जाके हो झाई दवाई कोनो काम ना करे x2
रोग प्यार वाले दिहू लू लगाई दवाई कोनो काम ना करे

दुनिया जहाँ नही भावे घरवारी जाहिला से लगी भाई हमरा बेमारी x2
पवन जादू हम इही लू चलाई दवाई कोनो काम ना करे x2
रोग प्यार वाले दिहू लू लगाई दवाई कोनो काम ना करे

दिनभर बीमार रहा सिर्फ़ थोरे में दिल लगाल रातो में सूट्स नही रही जे जागल x2
कमलेश के यू लू लगाई दवाई कोनो काम ना करे x2
रोग प्यार वाले दिहू लू लगाई दवाई कोनो काम ना करे

भोजपुरी गीतो के संपूर्ण आनंद और मनोरंजन के लिए एक ही नाम Pkbhojpuri.in, जहाँ आपको Full HD में मजेदार गाने देखने को मिलते हैं|